यहाँ है एक आदिवासी गांव की अद्वितीय परंपरा, जिसमें महिलाएं एक-दूसरे के साथ कुश्ती लड़ती हैं।

हमीरपुर समाचार: यूपी के हमीरपुर जिले के एक गांव में एक प्राचीन परंपरा सदियों से चल रही है, जिसमें वृद्ध महिलाएं आपस में कुश्ती लड़ती हैं। इस परंपरा का आरंभ अंग्रेजी शासन के समय से हुआ था।

रक्षाबंधन के दिन, हमीरपुर, यूपी से एक अद्वितीय तस्वीर सामने आई। इसमें साड़ी पहने महिलाएं एक-दूसरे के साथ कुश्ती लड़ रही थीं, जो कि देखने में बेहद मनोरंजनी था। गांव में इस प्राचीन परंपरा के अंतर्गत हर साल एक ऐसा मुकाबला आयोजित किया जाता है, जिसमें महिलाएं आपस में प्रतियोगिता करती हैं और वे साड़ी और घूंघट में इसमें भाग लेती हैं। इस महिला दंगल के वीडियो भी वायरल हो गए हैं।

इस घटना का स्थान हमीरपुर के लोदीपुर निवासी गांव का है, जो हमीरपुर जिले के बिवार थाना क्षेत्र में स्थित है। यहाँ पर यह परंपरा सदियों से बनी हुई है और यहाँ की महिलाएं इसे आज भी मान्यता देती हैं। दंगल में बाजी मारने वाली महिलाओं के साहसपूर्ण प्रदर्शन को देखकर दर्शकों ने आश्चर्य जताया।

कहा जाता है कि अंग्रेजी शासन के समय, स्वायत्त्व की रक्षा के लिए गांव की महिलाएं दंगल की कला सीखने का अवसर पाई थीं, और तब से ही इस परंपरा का आरंभ हुआ। हर साल रक्षाबंधन के दिन इस दंगल का आयोजन होता है, जिसमें गांव की महिलाएं उत्सव के रूप में इसमें भाग लेती हैं, और इस परंपरा का पालन करती हैं। हालांकि, इस दंगल में पुरुषों का प्रवेश पूरी तरह से निषिद्ध है, और महिलाएं साड़ी और घूंघट में ही इसमें भाग लेती हैं। इस दंगल में भाग लेने वाली महिलाओं को गांव के सरपंच ने प्रशंसा और पुरस्कार से नवाजा।

यह महिलाओं का दंगल है जो पूरे बुन्देलखंड क्षेत्र में चर्चा में है, जहां महिलाएं सदियों से चल रही इस परंपरा का पालन कर रही हैं।

Leave a Comment