रूसी राजदूत ने दिया बड़ा बयान, भारतीय विदेश मंत्री को लेकर खुलेआम की बातें!

रूसी राजदूत डेनिस अलीपोव ने भारत में एक विवादित बयान दिया है, जिसमें उन्होंने अपने ही देश के विदेश मंत्री सर्गेई लावरोव को रूसिया बता दिया है। यह घटना चर्चा का केंद्र बन गई है।

सर्गेई लावरोव और उनके विदेश दौरे:

इस घटना का पीछा करते समय हमें याद आता है कि ब्रिक्स के बाद रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन भारत में होने वाले जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग नहीं लेने का फैसला किया था। उन्होंने यह फैसला युक्रेन युद्ध के कारण लिया था। भारतीय मीडिया ने इस पर सवाल उठाया कि रूसी राष्ट्रपति का यह फैसला क्यों हुआ।

डेनिस अलीपोव का बयान:

इस पर, डेनिस अलीपोव ने पत्रकारों के साथ बात करते हुए सर्गेई लावरोव को ‘रसिया’ बता दिया। यह बयान बड़ी हलचल में है और इसके बाद से उसकी सफाई की कई कोशिशें की गई हैं।

डेनिस अलीपोव की सफाई:

डेनिस अलीपोव ने अपने बयान को स्पष्ट करते हुए कहा कि उनका अभिप्राय यह था कि मंत्री लावरोव महिलाओं के बीच लोकप्रिय हैं और उनकी बुद्धिमत्ता, करिश्मा और बुद्धिमत्ता के लिए पुरुषों द्वारा भी उनकी बहुत प्रशंसा की जाती है।

पुतिन के विदेश दौरों का प्रभाव:

इसके पहले, रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन अंतरराष्ट्रीय आपराधिक न्यायालय द्वारा कथित युद्ध अपराधों पर उनकी गिरफ्तारी का वारंट जारी होने के बाद से अपने विदेश दौरों से परहेज कर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने साउथ अफ्रीका में आयोजित ब्रिक्स सम्मलेन में भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये भाग लिया था। अब उन्होंने भारत आने से भी इंकार कर दिया है।

समापन:

इस घटना ने भारतीय समाज में बड़ी हलचल मचाई है और यह दिखाती है कि विश्व के बड़े दिप्लोमेटिक मामलों के पीछे कई पहलु होते हैं जो आम लोगों को नहीं पता होते।

Leave a Comment