योगी आदित्यनाथ का सनातन धर्म पर तांडव! क्या यह सच में हो रहा है? 🤯

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि लोग अपनी मूर्खता से सूर्य पर थूकने का प्रयास कर रहे हैं. लेकिन उन्हें यह नहीं पता है वह थूक उन्हीं के ऊपर गिरेगा. रावण, हिरण्याकश्यप, और कंस ने ईश्वरीय सत्ता को चुनौती दी थी. लेकिन उनका सब कुछ मिट गया, कुछ नहीं बचा. पर ईश्वर बचा और आज भी है. सनातन धर्म सत्य है और कभी नहीं मिट सकता है.

सनातन के बारे में चर्चा बढ़ रही है और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने इस पर प्रतिक्रिया दी है। सीएम योगी ने कहा कि जब देश सकारात्मक रूप से आगे बढ़ रहा है तो कुछ लोगों को यह अच्छा नहीं लग रहा है और वे सनातन को दोष दे रहे हैं।

उन्होंने कहा कि सरकार की उपलब्धियों को कमजोर करने के लिए सनातन पर उंगली उठाने का प्रयास किया जा रहा है, लेकिन विरोधक भूल रहे हैं कि रावण के अहंकार, बाबर और औरंगजेब के अत्याचार से भी सनातन धर्म मिट नहीं पाया था। ऐसे में, ये तुच्छ लोग कहां से सनातन को मिटा पाएंगे।

सनातन का विरोध करने वाले मिट गए हैं, सच्चाई कभी नहीं मिट सकती है।

उदयनिधि स्टालिन ने क्या कहा था?

तमिलनाडु के सीएम एमके स्टालिन के बेटे उदयनिधि स्टालिन ने सनातन पर विवाद बढ़ने पर बचाव किया था। उदयनिधि ने सनातन उन्मूलन सम्मेलन में कहा था कि सनातन का सिर्फ विरोध नहीं किया जाना चाहिए, बल्कि इसे पूरी तरह समाप्त कर देना चाहिए। उन्होंने कहा कि सनातन धर्म सामाजिक न्याय और समानता के खिलाफ है और कुछ चीजों का विरोध नहीं किया जा सकता, उन्हें खत्म कर देना चाहिए।

सनातन पर विवाद बढ़ने पर पीएम मोदी के भी इस पर सख्ती से जवाब देने को कहा था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को मंत्रियों के साथ बैठक की थी, जिसमें उन्होंने कहा कि सनातन धर्म पर उदयनिधि के बयान का सही और तथ्यात्मक जवाब दिया जाए।

उदयनिधि के बचाव में आए थे उनके पिता एमके स्टालिन, जिन्होंने कहा कि उदयनिधि के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि भाजपा समर्थक ताकतें दमनकारी सिद्धांतों के खिलाफ नहीं खड़ी होतीं हैं। उन्होंने झूठी कहानी फैलाई कि उदयनिधि ने सनातन विचारों वाले लोगों के नरसंहार का आह्वान किया।

Leave a Comment